अलफाज़ के आगोश मे….

अलफाज़ के आगोश मे जो कैद हो सके,
ये वो जज़बात नही ।
बस आँखें ही कहतीं रही ,
और आँखें ही सुनतीं रही ।


Leave a Reply