जो भी है तेरे अपने …

जो भी है तेरे अपने ,तेरे आस पास है,
ऐ दिल ,ना जाने फिर भी तुझे किसकी तलाश है।
बादल बरस रहे हैं,आँखें बरस रही हैं,
बुझती नही है फिर भी ना जाने कैसी प्यास है।


Leave a Reply