लब तक….

लब तक आकर ना जाने क्यों लौट जाती हैं
बात दिल की किसी निराश दिवाने की तरह…


Leave a Reply