Category: Shayari

अलफाज़ के आगोश मे….

अलफाज़ के आगोश मे जो कैद हो सके, ये वो जज़बात नही । बस आँखें ही कहतीं रही , और आँखें ही सुनतीं रही ।

Read More →

जिंदगीं को अब….

जिंदगीं को अब जिंदगी के हवाले कर दिया, थक गयी हूँ मैं खुद से और खुदा से लडते लडते।

Read More →

जिंदगी…

जिंदगी तूने मुझसे छीन ली मेरी जिंदगीं, उस पर ये सितम कि जीने को मजबूर कर दिया।

Read More →

ऐ दिल ……ज़रा आहिस्ता चल….

ऐ दिल ……ज़रा आहिस्ता चल यूँ शोर ना कर …तू यूँ ना मचल यूँ ना होश गँवा …अब कुछ तो सँभल आने वाला है बस वो पल जिस पल के लिए है तू बेकल …..२

Read More →

लब तक….

लब तक आकर ना जाने क्यों लौट जाती हैं बात दिल की किसी निराश दिवाने की तरह…

Read More →

तबस्सुम पे नम ओस की बूँदे ….

तबस्सुम पे नम ओस की बूँदे , रात ज्यों शबनम में नहा कर आई है। फलक पे बिखरे हैं ना जाने कितने मोती, दिल की कली आज नये अंदाज़ में मुस्कुराई है ।

Read More →

मन्तसिर है…..

मन्तसिर है हम तेरे एक ज़माने से, एक ज़माने तक हमें तेरा इंतज़ार रहे सब्र कर लेंगें जो कभी हम बेसब्र हुए, खुदा करे तेरे पास तेरा क़रार रहे…..

Read More →